मंगलवार, 19 जून 2007

जो आज़ाद रहे हैं गुलामी का मतलब नहीं जानते

NARAD:Hindi Blog Aggregator

उनका लोकतंत्र तो
परलोक में बसता है
यहां बात करते हैं आजादी की
पर दिल उनका डंडा बजने वाले
देशों में ही रमता है
बच्चे पैदा करने से लेकर
अपने मरने तक के मामले में
सरकार अपना फंदे कसे रहती है
लोगों के सांस लेने पर भी
जो हिसाब मांगती है
उस देश को मानते हैं आदर्श
यहां आजादी नहीं मांगते
उसकी सीमाओं को तोड़कर
बताते हैं कि
हमें आजादी नहीं है
भटके लोग हैं वह
मत अपने शब्द बरबाद करो
अपने लक्ष्य की तरफ बढते रहो
उनकी देह है इसी जमीन पर बनी
पर उनका मन और कहीं है
-----------------
जहाँ शब्द खामोश हो
वहाँ क़त्ल होता है
फरियाद नहीं होती
ऎसी जगहें दूर से शांत
और सहज दिखती हैं
पर असल में नरक से
कम नहीं होतीं
जहां शब्द गूंजता है
वहां तिनके गिरने की भी
आवाज भी सुनाई देता है
लगता है शोरगुल बहुत है
पर आजादी का मतलब
वही जानते हैं
जो गुलामी से जीते हैं
जो आज़ाद रहे हैं सदा
वह गुलामी का मतलब भी
नहीं जानते हैं

2 टिप्‍पणियां:

अनूप शुक्ला ने कहा…

उसकी सीमाओं को तोड़कर
बताते हैं कि
हमें आजादी नहीं है

सही है।

अरुण ने कहा…

मै आजाद हू
दुसरो को गरियाने के लिये
दुसरो को सताने के लिये
और गर कोई मुझॆ कहे
तो उसको सबक सिखाने के लिये
हा मै आजाद हू
देखते नही मै लोकतंत्र का चौथा खम्बा हू
इसीलिये इन सब से मै ज्यादा लम्बा हू
मै जो कहु वही सत्य है,
मै जो लिखु वही सुंदर है
मै जो दिखाउ वही शिव है
हा मै आजाद हू