बुधवार, 25 जुलाई 2007

कौन देगा चैन

NARAD:Hindi Blog Aggregator

कौन देगा चैन
---------------

कौन ढूँढें और कहाँ सुख का चैन
जो दिल की शांति बेचते हैं
अपने-अपने रंग के चोले ओढ़कर
दौलत और शौहरत के लिए
घूम रहे हैं बेचैन
---------------

बेरोजगार
---------------
कुछ पढ़ लिख गया
तो अब हो गया बेरोजगार
कहीं इधर-उधर ढूँढता नौकरी
अपनी शिक्षा की उपाधि से
कोई वास्ता नहीं रहा
पहले वेतन का है उसे इन्तजार
-------------------


बजवाते ताली
-------------------
पूंजीपति को देते हैं गाली
खुद की जेब भी है खाली
रोटी का सपना दिखाकर
बजवाते लोगों से ताली
लड़ते-झगड़ते अपनी रोटी तो
सेंक जाते हैं पर उनके भर के
बरतन भी रहते हैं खाली
-------------------


------------

2 टिप्‍पणियां: