रविवार, 30 मार्च 2008

फूलों की खुशबू से नहीं महकता चमन-हिंदी शायरी

खिलौने से बच्चे अब कहाँ खेलते
दिन रात घर में अपने बडों को
इंसानों से जो खेलते देखते
बड़े भी क्या सिखाएं छोटों को
अपने बडों से ही सीखे क्या
बस जिन्दगी एक नौकरी या व्यापार
जिसमें समेटो दौलत और शौहरत अपार
जमाने के बिगड़ जाने की शिकायत में
करते हैं अपना वक्त बरबाद लोग
अपने चाल, चरित्र अपने चेहरे नहीं देखते
------------------------------------

फूलों की खुशबू से नहीं महकता चमन
आदमी के मन में बसी है
बस कुछ पाने की ख्वाहिश
नहीं चाहता अमन
अंधी दौड़ में भाग रहा हैं
अपने दिल और शरीर का करता है दमन
---------------------------------

1 टिप्पणी:

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

आज का यथार्थ ।